लारसन एंड टूब्रो ने अप्रैल-सितंबर में 14,000 कर्मचारियों को नौकरी से निकाला

व्यापार मे आई मंदी और आर्थिक चुनौतियों से जूझ रही भारत की बड़ी इंजीनियरिंग फर्म क्षेत्र की प्रमुख कंपनी लार्सन एंड टुब्रो (एलएंडटी) ने इस साल अप्रैल-सितंबर अवधि में अपने विभिन्न कारोबारों से 14000 कर्मचारियों को काम से निकाल दिया है। यह आंकड़ा उसके कुल कर्मचारियों की संख्या का 11.2 फीसदी हिस्सा है।

Larsen-Toubro

बीते मंगलवार को एलएंडटी कंपनी के मुताबिक उसने यह फैसला बिजनेस में आई मंदी के चलते लिया है। एलएंडटी के मुख्य वित्त अधिकारी आर शंकर रमन ने कहा  ग्रुप में डिजिटाइजेशन के कारण बड़ी संख्या में कर्मचारियों के लिए कोई काम नहीं बचा था, जिसकी वजह से भी यह छंटनी करनी पड़ी, ताकि वो अपने वर्कफोर्स को ‘सही लेवल’ पर ला सके।

हमने डिजिटाइजेशन और प्रॉडक्टिविटी बढ़ाने के मकसद से जो उपाय किए थे, उसके चलते कई नौकरियों की जरूरत नहीं रह गई। इसके चलते सितंबर को खत्म छमाही में ग्रुप ने 14000 कर्मचारियों की छंटनी कर दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *