8 फायदे : चाय बनाने के बाद भी करें चाय पत्ती का इस्तेमाल, ये है बहुत काम की चीज़

हर घर में रोज चाय तो बनती ही है। चाहे वह ब्लैक टी हो या ग्रीन टी और या फिर दूध वाली चाय। हम अक्सर चाय बनने के बाद चाय की पति को कूड़ेदान मे फेक देते है ये सोच की चाय बनने के बाद चाय पत्तियों का क्या काम? लेकि हम आपको ये बता दे की चाय की पतियो का दुबारा से इस्तेमाल किया जा सकता है। क्योकि की इस्तेमाल की हुई चाय की पतिया न केवल आपकी सेहत के लिए फायदेमंद है बल्कि आपके घर के अन्य कामों में भी आसानी से प्रयोग में लाई जा सकती है।

चाय की पत्ती के फायदे:

1: चायपत्ती का इस्तेमाल आप अपने बालों में चमक और दमक लाने के लिए कर सकते है, ये बहुत फायदेमंद होती है। चायपत्ती का पानी एक तरह से प्राकृतिक कंडिशनर का काम करती है। चाय बनाए के बाद बची हुई पति को धो ले, फिर उसे दुबारा से गरम पानी मे उबाल ले फिर उसे ठंडा कर उस पानी से अपने बाल को सॉफ करे। ऐसा रोज करने से आपके बालो की चमक बढ़ जाएगी।

2: चायपत्ती का एक और फायदा यह है कि आप इसका इस्तेमाल लकड़ी से बनी चीज़ो का जैसे फर्नीचर को चमकदार बनाने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं। चाय बनाए के बाद बची हुई पति को दुबारा से गरम पानी मे उबाल ले फिर उसे ठंडा कर इसे एक स्प्रे बॉटल में भरकर फर्नीचर की सफाई करें। इससे फर्नीचर चमक उठेंगे।

3: चाय बनाए के बाद बची हुई चायपत्ती को दुबारा से गरम पानी मे उबाल ले। फिर उस पानी से आप घी और तेल के डब्बे साफ कर सकते है। इससे डब्बे की दुर्गंध चली जाएगी।

4: चायपत्ती का इस्तेमाल खाद के रूप में किया जाता है। गमले में पौधों को समय-समय पर खाद की जरूरत होती है। ऐसे में आप बची हुई चायपत्ती को साफ कर लें और गमले में डाल दें। इससे आपके पौधे स्वस्थ रहेगें।

5: अगर किसी स्थान पर मक्खियां अधिक बैठ रही हों, तो उन से बचने के लिए आप धुलि हुई चाय की पत्ती को गीला करके वहा रगड़ दें, जहां पर मक्खियां अधिक बैठ रही हो

6: चायपत्ती में एंटी-ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं। इसको चोट या किसी जख्म पर चायपत्ती का लेप लगाने से खून बहना बंद हो जाता है। उबली हुई चायपत्ती को अच्छी तरह धो लें और इसे चोट पर लगाने से घाव जल्दी भर जाएगा।

7: चाय की पत्ती में थोड़ा सा विम पाउडर मिलाकर क्राकरी साफ करें। उसमें चमक आ जाएगी।

8: चाय बनाए के बाद बची हुई चायपत्ती को दोबारा धोकर सुखा लें। फिर इसे काबुली चना बनाते समय इस चायपत्ती का इस्तेमाल कर सकते है। इससे चने की रंगत निखर जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *