26/11 मुंबई हमले की बरसी आज, दर्द और आसुओं में गुजर गए 8 साल

देश की आर्थिक राजधानी और बॉलीवुड मुंबई में आज ही के दिन (26/11) आठ साल पहले सबसे बड़े आतंकी हमले को अंजाम दिया गया था। मुंबई में बुधवार, २६ नवम्बर 2008 को देर रात मशहूर होटल ताज, होटल ओबेरॉय के समीप तथा कई अन्य प्रमुख जगहों पर कुछ समय के अंतराल में हुए दर्जन भर शृंखलाबद्ध विस्फोट और गोलीबारी हुई थी। जिसमें १३७ लोगों की मौत हो गई जबकि लगभग ३०० लोग घायल हो गए थे।

26-11-mumbai-attack

26/11 मुंबई हमले की वो खौफनाक रात को लोग आज भी नही भूल पाए है। आज भी लोग उस खौफनाक रात के हमले को याद करके दहल उठते हैं। आज 26/11 मुंबई हमले की 8वीं बरसी है।

26 नवंबर 2008 को लश्कर-ए-तैयबा के 10 आतंकी समुद्री रास्ते से भारत की व्यावसायिक राजधानी मुंबई में दाखिल हुए थे। हमलावर कराची से नाव के रास्ते मुंबई में घुसे थे। आतंकियो ने मुंबई के दो पाँच सितारा होटलों (ताज और ओबेरॉय), रेलवे स्टेशनों और एक यहूदी केंद्र को निशाना बनाया।

रात के तक़रीबन साढ़े नौ बजे मुंबई के छत्रपति शिवाजी टर्मिनस मे दो हमलावर घुसे और अंधाधुंध फ़ायरिंग शुरू कर दी। दोनों के हाथ में एके47 राइफ़लें थीं। आतंकियो ने हमले मे 52 लोगों को मौत के घाट उतार दिया और 109 को ज़ख़्मी कर दिया.

इसके बाद आतंकवादी होटल ताज, होटल ओबेराय और नरीमन हाउस में छुपकर लगातार विस्फोट और गोलीबारी करते रहे। इस हमले में सारे आतंकवादी मारे गये थे। इसके बाद आतंकवादी होटल ताज, होटल ओबेराय और नरीमन हाउस में छुपकर लगातार विस्फोट और गोलीबारी करते रहे। होटल ताज मे जब हमला हुआ था, तो वहाँ डिनर का समय था और बहुत सारे लोग वहाँ जमा थे तभी अचानक अंधाधुंध गोलियाँ चलने लगीं। सरकारी आँकड़ों की मानें तो होटल ताज में 31 लोग मारे गए और चार हमलावरों को सुरक्षाकर्मियों ने मार गिराया।

इस हमले में 10 आतंकवादी मे से 9 मारे गये थे। हमले में जिंदा पकड़े गए एकमात्र आतंकी अजमल कसाब को पिछले साल 21 नवंबर को फांसी दे दी गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *