घर में कैश रखने की होगी लिमिट, कालेधन और भ्रष्टाचार पर रोक लगाने के लिए सरकार एक और बड़ा फैसला

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तरफ से लिए गए 500 और 1000 रूपए के पुराने नोटों को बंद करने के फैसले के बाद अब सरकार कालेधन और भ्रष्टाचार पर रोक लगाने के लिए एक और बड़ा फैसला ले सकती है। खबरों की मानें तो सरकार अब घर में कैश रखने की भी लिमिट तय कर सकती है। सरकार का भी मानना है कि कैश घरों से ज्यादा बैंकों में रहे इससे बैंकिंग सिस्टम भी तंदरुस्त रहेगा और कैशलेस समाज के निर्माण में मदद मिलेगी।

यह नियम आपके घरेलू अकाउंट से जुडा है। जी हां जो लोग पहले कुछ पैसों को अपने घरों में जरूरत के लिए रख लेते थे लेकिन वो ऐसा नहीं कर पाएंगे। अब मोदी सरकार ने इस पर एक सीमा बना दी है। इस तय सीमा के अनुसार ही आप अपने घर में पैसों को रख सकते है। यह फैसला कालेधन पर रोक लगाने के लिए भी जरूरी है।

हालांकि कैश रखने की सीमा के बारे में कुछ भी नहीं बताया है लेकिन अनुमान लगाया जा रहा है कि 15 लाख रूपए कैश घर में रखने की लिमिट तय की जा सकती है। बता दें कि केंद्र सरकार ने कालेधन पर जो एसआईटी बनाई थी उसने अपनी रिपोर्ट में यह सिफारिश की गई थी कि घर में कैश रखने की सीमा 15 लाख हो, इससे ज्यादा का कैश घरों में न रखा जाए।

रिपोर्ट में किसी व्यक्ति के खाते से तीन लाख रुपये से ज्यादा निकाले जाने पर बैंक से फाइनैंशल इंटेलीजेंस यूनिट और इनकम टैक्स डिपार्टमेंट को जानकारी दिए जाने पर जोर दिया गया है। खबरों की मानें तो अगर ये फैसला लिया गया तो इस फैसले के पीछे नोटबंदी के बाद कालेधन पर छापेमारी में बरामद हो रही भारी भरकम नकदी है। ऐसा होने पर कोई भी व्यक्ति एक निश्चित सीमा से अधिक धनराशि कैश में नहीं रख पाएगा।

सूत्रों के अनुसार वित्त मंत्रालय इस संबंध में कई विकल्पों पर विचार कर रहा है। अगर सरकार इस फैसले को मंजूर करती है तो आने वाले दिनों में उन लोगों की परेशानी बढ़ सकती है, जो ज्यादातर लेनदेन नगदी में करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *